पकौड़े के ठेले के नीचे रखे सिलेंडर में लगी आग, पुलिस टीम ने आग पर काबू पाया, बड़ा हादसा बचा

प्रशासन कि घोर लापरवाही , तुलसी सर्किल के आगे अवैधानिक रूप से ठेले और रहेडियो वाले खड़े रहते है | कोई भी कार्यवाही नहीं |
पीलीबंगा: कस्बे के तुलसी सर्किल के पास खड़े एक पकौड़े के ठेले में रविवार सुबह घरेलू सिलेंडर में अचानक आग लगने से ठेला व उस पर रखा सामान जलकर राख हो गया। जानकारी के अनुसार रविवार सुबह करीब 10:15 बजे मुकेश पुत्र नथमल जाति शर्मा निवासी पीलीबंगा अपने ठेले पर पकौड़े बना रहा था। तभी ठेले के नीचे पड़े सिलेंडर में अचानक आग लग गई। आग लगते ही घटनास्थल पर अफरा-तफरी मच गई। घटना की सूचना मिलते ही एएसआई हंसराज के नेतृत्व में पहुंची पुलिस टीम ने आस-पास लगे ठेलों व भीड़ को हटाकर जलती आग पर काबू पाया, जिससे बड़ा हादसा होते-होते टल गया। कस्बे में नगरपालिका व कृषि उपज मंडी समिति दोनों के पास अलग अलग दमकल होने के बावजूद मौके पर भीड़ भरे बाजार में घटना होने पर भी कोई दमकल नहीं पहुंची। नगर पालिका की दमकल तो उसके नव निर्माणाधीन भवन में सजावटी खिलौना बनकर पड़ी है। वहीं कृषि उपज मंडी समिति को राज्य सरकार द्वारा प्रदान की गई दमकल कि अभी तक चेसिस पर बॉडी भी नहीं लगी है। जबकि उसे कृषि उपज मंडी समिति कार्यालय में खड़े छह माह से अधिक समय बीत चुका है।

दमकल कि लापरवाही के साथ साथ नगरपालिका और पुलिस प्रशासन की भी गंभीर लापरवाही है कि, क्यों ठेले वाले सडक पर सिलेंडर रख कर दूसरों कि जान जोखिम में डालने वालो और करोड़ो रूपये खर्च कर पीलीबंगा के सोंदर्य को ख़राब करने वालो को प्रश्रय दे रहे है ? ये सब प्रशासन कि नाक के नीचे हो रहा है , इसलिए यह कतिपय स्वीकार्य नहीं है कि ये सब आपको पता नहीं है | आज एक आगजनी कि घटना हुई है , भविष्य में नहीं होगी ये कौन जानता है , लेकिन समय रहते सही कदम उठाये जाये तो आमजन सुरक्षित  रह सकेगा |
Post a Comment

Popular posts from this blog

हनुमानगढ़ जिले का स्थापना दिवस आज

पारिवारिक न्यायालय के अनूठे फैसले- परिवार टूटने के बजाय हो रहे एक

‘नाटकों का सामाजिक जीवन में महत्व’ विषय पर परिचर्चा