महाशिवपुराण कथा: वृंदावन में पैदा होना सौभाग्य की बात: प्रकाश कृष्ण


पीलीबंगा : जन्म जन्मांतर के पुण्य उदय होने के बाद ही भगवान शिव की कथा सुनने को मिलती है। यह बात गीता भवन ट्रस्ट द्वारा गीता भवन प्रांगण में स्वामी सुरेश मुनि जी महाराज के सान्निध्य में आयोजित करवाई जा रही महाशिवपुराण कथा के चौथे दिन रविवार को प्रकाशकृष्ण शास्त्री ने उपस्थित श्रद्धालुओं को कही। उन्होंने भगवान शिव द्वारा नारद का घमंड भंग किए जाने का प्रसंग विस्तार से सुनाया। उन्होंने कहा कि काशी में मरना, हरिद्वार में रहना व वृंदावन में पैदा होना बड़े सौभाग्य की बात होती है। कथा प्रारंभ से पूर्व यजमान मोहनलाल गर्ग व हरविंद्र गोयल ने सपत्नीक व्यास का पूजन किया। कथा में गीता भवन ट्रस्ट सचिव श्यामसुंदर शर्मा, भगवान सिंह, सूरजभान बंसल, तनसुखदास पाणेचा, गोपीराम मांझू, हरिकिशन बंसल, जगदीश मूंधड़ा, महेश गुप्ता, रामदेव अग्रवाल, अमरनाथ गोयल, मदनलाल मरेजा, गोपाल गर्ग आदि का विशेष सहयोग मिल रहा है। 
Post a Comment

Popular posts from this blog

हनुमानगढ़ जिले का स्थापना दिवस आज

पारिवारिक न्यायालय के अनूठे फैसले- परिवार टूटने के बजाय हो रहे एक

‘नाटकों का सामाजिक जीवन में महत्व’ विषय पर परिचर्चा