नीलगाय के शव के साथ पीलीबंगा-कैंचियां रोड पर वन्यजीव प्रेमियों ने लगाया तीन घंटे जाम, समझाइश के बाद खोला

चक 5 एलकेएस में मंगलवार देर शाम को एक मादा नीलगाय की गोली लगने से हुई मौत के बाद बुधवार को वन्यजीव प्रेमियों ने पीलीबंगा-कैंचिंया लिंक रोड पर लिखमीसर बस स्टेंड पर नीलगाय के शव रखकर जाम लगा दिया। इससे दोनों तरफ आने-जाने वाले वाहनों की लंबी कतारें लग गई। करीब तीन घंटे तक जाम की स्थिति रहने से तेज गर्मी तथा उमस में वाहन चालकों तथा राहगीरों को काफी परेशानी हुई। वहीं वन्यजीव प्रेमी घटनास्थल पर किसी प्रशासनिक अधिकारी को बुलाने पर अड़े रहे। इससे पहले सुबह नौ बजे वन्यजीव प्रेमियों ने खरलियां स्थित श्रीकृष्ण गोशाला में रखे नीलगाय के शव को ट्रेक्टर-ट्रॉली में लादकर सड़क के बीचोंबीच रखकर जाम लगा दिया था। हल्का पटवारी अशोक कुमार ने पीलीबंगा तहसीलदार सत्यनारायण सुथार को सूचना दी तो वे हनुमानगढ़ से मौका स्थल पर पहुंचे तथा घटना की जानकारी ली। ऐसे में काफी देर तक वन्यजीव प्रेमियों के साथ वार्ता का दौर जारी रहा, लेकिन बात सिरे नहीं चढ़ पाई। इस पर गोलूवाला एसएचओ हंसराज लूणा को मौके पर बुलाया गया तथा वन विभाग के रेंजर होशियार सिंह तथा कर्मचारियों से इस संबंध में जानकारी ली गई। इस पर तहसीलदार ने रेंजर को फटकार लगाते हुए कहा कि अब तक ऐसी कितनी घटनाएं हो चुकी है एक में भी किसी अपराधी को आप सजा नहीं दिलवा सके। उन्होंने इस मामले में पूरी तरह से सजगता बरतने की बात कहते हुए कहा कि इस मामले में आरोपी किसी भी तरह से नहीं बचना चाहिए। तहसीलदार ने रेंजर होशियार सिंह से कहा कि जितनी पॉवर एसएचओ को है उतनी ही आपको। फिर आप दोषियों कि खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने में किसलिए कोताही बरत रहे है। तहसीलदार तथा एसएचओ व बिश्नोई समाज के पदाधिकारियों द्वारा करीब एक घंटे की समझाइश के बाद ग्रामीणों ने जाम हटाने का निर्णय लिया तथा दोषी के खिलाफ कार्रवाई करने को लेकर परिवाद दायर किया। मृत नीलगाय का पशु चिकित्सकों की टीम से पोस्टमार्टम करवाकर दफना दिया गया। वन्यजीव प्रेमी महावीर सींवर, धर्मवीर ज्याणी, मनोहर खीचड़, रविंद्र गोदारा, अशोक तथा कपिल ज्याणी आदि ने दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने के साथ उनके हथियार जबत कर लाइसेंस निरस्त करने की मांग भी प्रशासन से की।
Post a Comment

Popular posts from this blog

हनुमानगढ़ जिले का स्थापना दिवस आज

पारिवारिक न्यायालय के अनूठे फैसले- परिवार टूटने के बजाय हो रहे एक

‘नाटकों का सामाजिक जीवन में महत्व’ विषय पर परिचर्चा