लावारिस हाल में घूम रही महिला को विधायक के हस्तक्षेप से नारी निकेतन भेजा


पीलीबंगा: कस्बे में लावारिस हालात में घूम रही एक मंद बुद्धि महिला को शनिवार शाम को दुकानदारों ने नारी निकेतन भेजने के लिए पुलिस के सुपुर्द कर दिया। वहीं पुलिस के सुनवाई नहीं करने से लोगों ने नाराजगी जताई और फिर विधायक के हस्तक्षेप के बाद पुलिस टीम महिला कांस्टेबल को लेकर मौके पर पहुंची और महिला की सुपुर्दगी लेकर उसे नारी निकेतन भिजवा दिया। जानकारी अनुसार कस्बे के लखूवाली रेलवे स्टेशन व बस स्टैंड पर लावारिस हालात में घूम रही इस अज्ञात महिला को शनिवार दोपहर को कोई अज्ञात व्यक्ति बाइक पर कस्बे के वार्ड 15 में पंजाब नेशनल बैंक के पास छोड़ गया। भयंकर गर्मी में अकेली भटकती महिला ने दुकानदारों को इशारों से कुछ खिलाने को कहा। दुकानदारों ने उसे खाना खिलाकर वहां बिठा लिया। 
इशारों से समझा रही थी बातें, भाषा किसी को नहीं आई समझ 
महिला मंद बुद्धि व क्षेत्रीय भाषा से अनजान होने के कारण लोगों को इशारों से ही अपनी बात समझा रही थी, हालांकि मौके पर मौजूद लोगों ने कई बिहारी व गुजराती महिलाओं को बुलाकर उसकी भाषा समझने का प्रयास भी किया परंतु किसी के कोई बात समझ में नहीं आई। जिसके बात मौके पर मौजूद लोगों को प्रशासन व पुलिस का सहारा लेना पड़ा। 
सूचना देने के 4 घंटे तक इंतजार करते रहे लोग, पुलिस पहंुची तो खरी-खरी सुनाई 
इससे पहले सूचना मिलते ही व्यापार मंडल, तरुण संघ व प्रैस क्लब व अन्य संगठनों के पदाधिकारी मौके पर पहुंच गए और पुलिस व प्रशासन के अधिकारियों को सूचित किया परंतु सूचना दिए जाने के करीब 4 घंटे बाद भी प्रशासन व पुलिस के किसी भी नुमाइंदे के मौके पर न पहुंचने के कारण आमजन में आक्रोश फैल गया। इसके बाद व्यापार मंडल सचिव पवन मित्तल ने इस मामले से विधायक द्रोपती मेघवाल को अवगत करवाया। फिर उसे नारी निकेतन भेजा गया। इस दौरान मौके पर मौजूद व्यापार मंडल सचिव पवन मित्तल, उपाध्यक्ष विनोद गुप्ता, तरुण संघ के सुरेश जैन व यूथ कांग्रेस के लोकसभा सचिव निखिल बिश्नोई ने इस मामले में पुलिस के ढुलमुल रवैये को लेकर मौके पर पहुंचे पुलिसकर्मियों को खरी-खोटी सुनाई।
Post a Comment

Popular posts from this blog

हनुमानगढ़ जिले का स्थापना दिवस आज

पारिवारिक न्यायालय के अनूठे फैसले- परिवार टूटने के बजाय हो रहे एक

‘नाटकों का सामाजिक जीवन में महत्व’ विषय पर परिचर्चा