प्रेक्षवाहिनी कार्यशाला : प्रेक्षाध्यान आचार्य श्री महाप्रज्ञजी का महान अवदान

पीलीबंगा : 25 फरवरी (रविवार) को प्रेक्षावाहिनी की पीलीबंगा जैन भवन में मासिक कार्यशाला हुई। कार्याशाला में प्रेक्षा-ध्यान की वर्तमान में आवश्यकता एवं उपयोगिता के सन्दर्भ में विस्तार से बताया गया। संवाहक ओमप्रकाश जैन ने बताया कि प्रेक्षाध्यान आचार्य श्री महाप्रज्ञजी द्वारा प्रदत मानव जाति के कल्याण का एक महान अवदान है | आत्मचिंतन, आत्मनिरीक्षण , आत्मपरीक्षण एवं आत्मविशुद्धि की आध्यात्मिक एवं वैज्ञानिक ध्यान पद्धति है | वर्तमान में तनाव मुक्ति के रूप में यह एक अमृतोषधि सिद्ध हो रही है | कार्यशाला में प्रायोगिक रूप में कायोत्सर्ग (relaxation),अंर्तयात्रा (Internal Trip), दीर्घश्वास प्रेक्षा (Long Breathing) एवं मंगल भावना के प्रयोग करवाए गए | कार्यशाला में महासभा सदस्य देवेन्द्र बांठिया , सतीश पुगलिया,राजीव दुगड़,श्री रामशरणम आश्रम के केवल कोठारी , प्रवीण बांठिया , यश बैंक के गार्ड संजीव,नवीन जैन (अधिवक्ता ), संजीव जैन,रुपेश सुराणा,प्रेम छाजेड़,महेंद्र नोलखा ,राजू बैद,राजकुमार छाजेड,मालचंद पुगलिया ने विशेष रूप में भाग लिया |


Post a Comment

Popular posts from this blog

प्रेरकों को 6 हजार मानदेय दें

‘नाटकों का सामाजिक जीवन में महत्व’ विषय पर परिचर्चा

पारिवारिक न्यायालय के अनूठे फैसले- परिवार टूटने के बजाय हो रहे एक