भगवान भक्त की भावना से प्रकट होते हैं : सुरेश मुनि

पीलीबंगा. गीता भवन कमेटी द्वारा गीता भवन प्रांगण में आयोजित किए जा रहे श्रीरामचरित मानस कथा ज्ञान यज्ञ के पांचवें दिन बुधवार को स्वामी सुरेश मुनि जी महाराज व स्वामी रामानंद ब्रह्मचारी ने हरि नाम की महिमा का व्याख्यान की। उन्होंने कहा कि भगवान भक्त की भावना से प्रकट होते है।परमात्मा की दृष्टि से इस संसार को देखने वाले को सभी एक समान ही दिखते हैं। स्वामीजी ने बुधवार को राम केवट का प्रसंग सुनाते हुए कहा कि भगवान भी भक्तों की सच्ची भक्ति के वशीभूत होकर उसे मदद मांगते है। कथा में गीता भवन महिला मंडल की सदस्यों ने मधुर भजन गाकर श्रद्धालुओं को मंत्रमुग्ध कर दिया। बुधवार की कथा में सतपाल गर्ग, प्रेम सिंगला, जेठमल राठी, द्वारका प्रसाद कर्वा, श्याम सुंदर शर्मा, टीसी मित्तल, पवन गर्ग, तनसुखदास पाणेचा, पंडित नरसी राम,मनोज शर्मा व राजकुमार सैनी का सराहनीय योगदान रहा।

Post a Comment

Popular posts from this blog

हनुमानगढ़ जिले का स्थापना दिवस आज

पारिवारिक न्यायालय के अनूठे फैसले- परिवार टूटने के बजाय हो रहे एक

‘नाटकों का सामाजिक जीवन में महत्व’ विषय पर परिचर्चा