सवा करोड़ के नवकार जप का आयोजन

पीलीबंगा | अभातेयुप के तत्वाधान में तेयुप पीलीबंगा द्वारा स्थानीय जैन भवन में आचार्य श्री महाश्रमणजी की सुशिष्या समणी निर्देशिका परिमल प्रज्ञाजी, समणी गौतम प्रज्ञाजी, समणी मर्यादा प्रज्ञाजी के सानिध्य में विश्व शांति के लिए सवा करोड़ नवकार महामंत्र का जप अनुष्ठान हुआ । सम्निजी ने अपने मंगल उद्बोधन में बताया कि “मंत्रों में नमस्कार महामंत्र अनुतर है , सर्वोतम है | यह आत्मारधना पर आधारित मंत्र है | इस महामंत्र की अजपाजप साधना करने से प्रसन्नता , चित की संतुष्टि, संकल्प शक्ति एवं प्राण शक्ति का विकास होता है |”
सवा करोड़ का जप पूरे भारतवर्ष में सुबह 9 बजे से 10 बजे एक साथ,एक धुन,एक समय,एक मंत्र के साथ किया गया जप विश्व कीर्तिमान के लिए किया गया |
कार्यक्रम में उपखंड अधिकारी डॉ. अवि गर्ग ने इस महाजप के कार्यक्रम को सभी पृथ्वीवासीयों के लिए कष्टों व बुराईयों का अंत कर मन को शुद्ध करने वाला बताया तथा कार्यक्रम की सफलता के लिए बधाई दी |
रा.उ.माँ.वि. सूरांवाली के प्राचार्य सूरजप्रकाश डाबला ने प्रयवेक्षक की भूमिका निभाई व इस कार्यक्रम को अध्यात्मिक उन्नति की राह को प्रशस्त करने वाला अभुतपुर्व आयोजन बताया | इस कार्यक्रम में 81000 नवकार का जप जैन भवन में 343 संभागियो ने किया | जिसमें व्यापार मंडल पब्लिक स्कूल,जीनियस पब्लिक स्कूल,सरस्वती बाल मंदिर स्कूल, लिटिल एंजेल पब्लिक स्कूल के विद्यार्थियो ने उत्साह से भाग लिया |
कार्यक्रम में श्रीमती विनोद बांठिया , नीना जैन,चन्द्रकला जैन, राजबाला जैन ने गीतिका के द्वारा जप का महत्व बताया | कार्यक्रम के अंत में बंसीलाल दुगड़, मूलचंद बांठिया,तेयुप युवक परिषद् के अध्यक्ष मुकेश छाजेड़ ओर कार्यक्रम प्रभारी महेंद्र नोलखा, सुभाष रोह्तकिया,ओम पुगलिया,जसकरण बांठिया व विजयचंद दुगड़ ने साहित्य देकर अतिथियों का सम्मान प्रदान कर स्वागत अभिनन्दन किया | मंच का संचालन देवेन्द्र बांठिया ने किया |






Post a Comment

Popular posts from this blog

हनुमानगढ़ जिले का स्थापना दिवस आज

पारिवारिक न्यायालय के अनूठे फैसले- परिवार टूटने के बजाय हो रहे एक

‘नाटकों का सामाजिक जीवन में महत्व’ विषय पर परिचर्चा