सरकारी स्कूलों में निशुल्क पुस्तकें उपलब्ध नहीं करवाई, शिक्षक संघ ने किया विरोध

पीलीबंगा| राजस्थान शिक्षक संघ (शेखावत) ने हनुमानगढ़ जिले के कुछ राजकीय विद्यालयों में पर्याप्त संख्या में निशुल्क पुस्तकें उपलब्ध नहीं होने का कड़ा विरोध किया है। संघ के जिलाध्यक्ष संजय धारणिया व जिलामंत्री मनोहरलाल के अनुसार कक्षा 4 से 12वीं तक के छात्र छात्राओं को 50 प्रतिशत ही नई पुस्तकें मिलती हैं। राज्य सरकार द्वारा कई महीने पहले से ही विद्यालयों से किताबों की मांग संख्या मांगी जाती है परंतु संबंधित अधिकारियों व कर्मचारियों द्वारा सभी विद्यालयों के मांगपत्र समय पर विभाग तक नहीं पहुंचाने की लापरवाही के चलते कई विद्यालयों को तो मांग का 30 से 40 प्रतिशत हिस्सा ही किताबों का मिल पाया है। ऐसे में निशुल्क पु़स्तक प्रभारियों के सामने समस्या खड़ी हो गई है कि किस विद्यार्थी को पुस्तकें दें और किसे न दें। संघ ने दोषी अधिकारियों व कर्मचारियों के विरूद्ध कार्रवाई कर 10 जुलाई तक निशुल्क पुस्तकें उपलब्ध करवाने की मांग सरकार से की है।
Post a Comment

Popular posts from this blog

प्रेरकों को 6 हजार मानदेय दें

हनुमानगढ़ जिले का स्थापना दिवस आज

‘नाटकों का सामाजिक जीवन में महत्व’ विषय पर परिचर्चा