आज भी सावधान रहें|तेज अंधड़ की चेतावनी से दिनभर डरे रहे लोग, शुक्र है पहले दिन नुकसान नहीं

तूफान और बवंडर की आशंकाओं के बीच सोमवार को जिले में पूरा दिन तेज हवाएं चलती रहीं। देर शाम तक तूफान तो नहीं आया लेकिन रात करीब आठ बजे तेज बारिश जरूर शुरू हुई। इससे पहले दिन में कई बार धूल उड़ने से आंधी का भी माहौल बना लेकिन देर शाम तक मौसम ने अधिक रौद्र रूप नहीं दिखाया। इसकी बजाय माहौल में ठंडक घुल गई और तापमान में खासी गिरावट महसूस हुई। हालांकि तूफान आने की सूचनाओं के बीच लोग खासे आशंकित रहे। दिनभर मौसम में आए बदलाव पर लोगों की नजर रही क्योंकि स्कूलों में छुट्टी नहीं थी। तेज हवा के साथ बादल भी छाए रहे लेकिन बारिश देर रात को ही शुरू हुई। भले ही तूफान नहीं आया हो लेकिन सोशल मीडिया पर अफवाहों का तूफान पूरे दिन उठता रहा। कई मजाकिया मैसेज वायरल हुए तो कई वीडियो व्हाट्स एप पर डालकर बवंडर को बाड़मेर और फिर बीकानेर से आगे बढ़ता हुआ बताया गया। बाद में यह सभी सूचनाएं अफवाह ही साबित हुई। प्रशासन ने भी सूचनाओं व आमजन की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए अलर्ट तो जारी किया लेकिन लोगों को अफवाहों पर ध्यान न देने की सलाह भी जारी की। 

वर्तमान में तेज बवंडर या तूफान नहीं आने पर मौसम ठंडा होने से आमजन को राहत ही मिली है। अभी बारिश से किसानों को भी फायदा मिलेगा क्योंकि खरीफ की बिजाई जारी है। इस सबके बीच मंडी में भारी मात्रा में पड़े गेहूं के भीगने की आशंका जरूर बनी हुई है। धान मंडी में करीब काफी गेहूं खुले में पड़ी है। इस संबंध में एफसीआई के अधिकारियों को अवगत करवाया गया था। अब उठाव में तेजी आई है |
आपदा प्रबंधन| अस्पताल और दमकल सहित आपात सेवाओं को किया अलर्ट मौसम विभाग की चेतावनी के बाद कलेक्टर के निर्देश पर आपदा प्रबंधन के मद्देनजर आपात सेवाओं को अलर्ट कर दिया गया है। इसके तहत जिला अस्पताल और स्वास्थ्य केंद्रों में चिकित्सा सुविधा के मद्देनजर पर्याप्त इंतजाम रखने को कहा गया है। वहीं अग्निशमन केंद्र को 24 घंटे अलर्ट पर रहने के निर्देश दिए गए हैं। नगरपरिषद आयुक्त ने आपदा प्रबंधन संबंधी सामान रस्से, बाल्टी, तंबू, टायर-ट्यूब, बैट्री, वाहन एवं अन्य उपकरणों को तैयार हालत में रखने के निर्देश दिए हैं। 
आपात स्थिति में इन नंबरों पर करें कॉल
जिला कंट्रोल रूम- 01552-260299
पुलिस कंट्रोल रूम- 01552-261105,100
नगरपरिषद कंट्रोल रूम-
अग्निशमन केंद्र- 101 
Post a Comment

Popular posts from this blog

प्रेरकों को 6 हजार मानदेय दें

‘नाटकों का सामाजिक जीवन में महत्व’ विषय पर परिचर्चा

पारिवारिक न्यायालय के अनूठे फैसले- परिवार टूटने के बजाय हो रहे एक