खातेदारी सनद से वंचित रहे किसान 10 दिन से अनशन पर बैठे, 15 को महापंचायत का निर्णय


बड़ोपल बारानी क्षेत्र में वंचित रहे काश्तकारों को खातेदारी सनद जारी करने की मांग को लेकर विगत 10 दिनों से उपखंड कार्यालय के समक्ष क्रमिक अनशन पर बैठे काश्तकारों को नगर के विभिन्न व्यापारिक, राजनैतिक व अन्य संगठनों का समर्थन लगातार मिलने से काश्तकारों का यह आंदोलन तूल पकड़ता जा रहा है। क्रमिक अनशन को गति प्रदान करते हुए काश्तकारों ने तीन की जगह पांच लोगों को प्रतिदिन क्रमिक अनशन पर बैठाने का फैसला लेते हुए 15 जनवरी को अनशनस्थल पर सभी सहयोगी संगठनों के सहयोग से महापंचायत बुलाने का निर्णय लिया गया। शुक्रवार को काश्तकार सुलतानाराम छींपा, भोजाराम मेघवाल, ओमप्रकाश, राकेश भादू व आत्माराम सिंगाठिया को अनशन पर बैठे। 
बार संघ ने दिया समर्थन 
शुक्रवार को बार संघ पीलीबंगा ने अनशन पर बैठे काश्तकारों को समर्थन देते हुए वकीलों ने उनके साथ अनशन में भी शिरकत की। अधिवक्ताओं ने किसानों के हितों के लिए कानूनी लड़ाई लड़ने का भरोसा दिलाया। वहीं व्यापार मंडल, पेस्टीसाइड्स एसोसिएशन, शिवसेना, माकपा, एनएसयूआई व अन्य संगठनों ने पूर्व में ही इन काश्तकारों को समर्थन देने की घोषणा की। शुक्रवार को धरने पर कृषि उपज मंडी समिति, हनुमानगढ़ की चेयरपर्सन रामेश्वरी चांवरिया, पीसीसी सदस्य विनोद गोठवाल, पंचायत समिति प्रधान प्रेमराज जाखड़, डायरेक्टर दौलतराम भांभू, उग्रसेन छींपा, रायसिंह जाखड़, राजू जालप, सोहन सुथार, जगदीश नायक, हजारीराम लुगरिया, जसराम घोड़ेला, सुलतानराम, मनफूल कुम्हार, वेद भादू, राजेंद्र शर्मा, कमला मेघवाल, कामरेड मनीराम मेघवाल, डीवाईएफआई के नाजम अली, सेवा सिंह ढिल्लो, पृथ्वीराज जाखड़ सहित अनेक लोग शामिल हुए। 
Post a Comment

Popular posts from this blog

प्रेरकों को 6 हजार मानदेय दें

हनुमानगढ़ जिले का स्थापना दिवस आज

‘नाटकों का सामाजिक जीवन में महत्व’ विषय पर परिचर्चा