तरुण संघ द्वारा संस्था का 37वां स्थापना दिवस समारोह - उल्लेखनीय कार्य करने वाली 55 प्रतिभाओं का हुआ सम्मान, दिव्यांगों को वितरित की ट्राइसाइकिलें


पीलीबंगा. तरुण संघ द्वारा संस्था का 37वां स्थापना दिवस समारोह बुधवार देर शाम को गंगा पैलेस में आयोजित किया गया। मुख्य अतिथि विधायक द्रोपती मेघवाल, समारोह अध्यक्ष एसडीएम डॉ.अवि गर्ग एवं विशिष्ट अतिथि शिक्षण समिति अध्यक्ष जगजीत सिंह सिद्धू, व्यापार मंडल अध्यक्ष हनुमानप्रसाद जैन, पूर्व पालिकाध्यक्ष सुभाष गोदारा, थानाधिकारी विष्णु खत्री, पालिकाध्यक्ष राजकुमार फंडा, बार संघ अध्यक्ष एडवोकेट श्यामसुंदर मूंढ समाजसेवी लालचंद भादू ने दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम की शुरुआत की। संस्था महासचिव सुरेश जैन ने संस्था का वार्षिक प्रतिवेदन प्रस्तुत किया। 

समारोह में कस्बे के विभिन्न विद्यालयों के विद्यार्थियों एकलव्य आश्रम मक्कासर के बच्चों द्वारा मनमोहक सास्कृतिक प्रस्तुतियां दी गईं। कार्यक्रम में संस्था द्वारा चयनित दिव्यांगों को ट्राईसाइकिलों का वितरण करने के साथ साथ शिक्षा के क्षेत्र में विशेष उपलब्धियां प्राप्त करने वाली क्षेत्र की प्रतिभाओं एवं संस्था द्वारा संचालित कल्याण भूमि में निस्वार्थ सेवा देने पर व्यवसायी चुन्नीलाल फुटेला को सम्मानित किया गया। 
अतिथियों ने संस्था द्वारा क्षेत्र में करवाए जा रहे समाज सेवा के कार्यों की सराहना की। पालिकाध्यक्ष राजकुमार फंडा ने संस्था को शव वाहन उपलब्ध करवाने के लिए नगरपालिका की तरफ से हरसंभव सहयोग करने की घोषणा की। संस्था द्वारा एकलव्य आश्रम के संचालक सुखराम मेहरड़ा का भी सम्मान किया गया। 
कार्यक्रम में थाने के हैड कांस्टेबल देवेंद्र कुमार ने बच्चों को भारतीय संस्कृति एवं परंपरा के बारे में विस्तार से बताया। मंच संचालन निर्मल लुगरिया, सोनू खंडेलवाल पीलीबंगा ग्राम इकाई के निर्मल कुमार द्वारा संयुक्त रूप से किया गया। कार्यक्रम में संस्था के दीपक बालान, सुनील चुघ, हितेश बंसल, सुशील गुप्ता, रवींद्र जिंदल, ओमप्रकाश अरोड़ा, अनिल चिलाना, प्रहलाद फगोडिय़ा सहित हांसलिया ग्राम इकाई के पदाधिकारियां का सराहनीय योगदान रहा। अंत में संस्था अध्यक्ष देवेंद्र मित्तल ने सभी का आभार जताया। 
अभिभावक सम्मेलन में बच्चों के अच्छे आचरण पर दिया जोर 
Post a Comment

Popular posts from this blog

हनुमानगढ़ जिले का स्थापना दिवस आज

पारिवारिक न्यायालय के अनूठे फैसले- परिवार टूटने के बजाय हो रहे एक

‘नाटकों का सामाजिक जीवन में महत्व’ विषय पर परिचर्चा