कला भवन में काव्य गोष्ठी का आयोजन

पीलीबंगा अखिल भारतीय साहित्य परिषद एवं श्री जयलक्ष्मी साहित्य कला एवं नाटक मंच के संयुक्त तत्वावधान में रविवार को मंच के कला भवन में एक पाक्षिक काव्य गोष्ठी का आयोजन वरिष्ठ साहित्यकार बलविंद्र भनौत की अध्यक्षता में किया गया। गोष्ठी में कवि विजय बवेजा ने कविता ‘मेरे मां बाप हैं मेरा अभिमान पेश कर माता पिता की महिमा को पेश किया। कवि निखिल बिश्नोई ने ‘अब के वर्ष बरस जाना बदरा, किसी को खेत गिरबी है तो किसी का लगान बाकी है' पेश कर वर्तमान में किसानों की पीड़ा को व्यक्त किया। वरिष्ठ साहित्यकार बलविंद्र भनौत ने 'जिसका हाल पूछा आंखों से बरसात हुई सुनाकर लोगों की पीड़ा को व्यक्त किया। गजल गायक नवदीप भनौत ने ‘राहे मुश्किल छोड़ी नहीं जाती' सुनाकर माहौल को खुशनुमा बनाया। रेशम अटवाल ने 'हर हंसी मुस्कान नहीं होती’ कविता सुनाई। इस अवसर पर राकेश वर्मा, चंद्रशेखर कालोया सहित परिषद के अन्य सदस्य मौजूद थे।
Post a Comment

Popular posts from this blog

प्रेरकों को 6 हजार मानदेय दें

हनुमानगढ़ जिले का स्थापना दिवस आज

‘नाटकों का सामाजिक जीवन में महत्व’ विषय पर परिचर्चा