पीलीबंगा में डेंगू के दो और रोगी मिले, 3 माह में 12

पीलीबंगा : कस्बे में डेंगू का प्रकोप लगातार बढ़ता जा रहा है। पिछले 3 माह में केवल शहरी क्षेत्र में करीब 12 डेंगू रोगियों के मिल जाने के बावजूद चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग इस समस्या को लेकर गंभीर होता नजर नहीं रहा है। परिणाम स्वरूप कस्बे में डेंगू के 2 मरीज और सामने आए हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार कस्बे के वार्ड 6 के निवासी रमन (32) पुत्र मदनलाल मरेजा वार्ड 9 के निवासी नरेश पुत्र मनोज कुमार डेंगू की चपेट में चुके हैं। उल्लेखनीय है कि नरेश को तो कस्बे के सरकारी हस्पताल में भर्ती करवाए जाने के बावजूद विभाग द्वारा उसे प्राथमिक उपचार देकर नरेश के परिजनों को उसे किसी बड़े सैंटर पर ले जाने का कहकर अपना पल्ला झाड़ लिया। इसके अलावा विभाग की तरफ से उक्त दोनों मरीजों के घरों आसपास पड़ोस में डेंगू से बचाव के लिए कोई फोगिंग एमएलओ का छिड़काव अभी तक नहीं करवाया गया है। इस मामले में हैरान कर देने वाली बात यह है कि चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग को नरेश के सरकारी हस्पताल में भर्ती होने तक की भी जानकारी नहीं है। बीसीएमओ डॉ.संदीप तनेजा से जब इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने इस बारे में जानकारी नहीं होने की बात कही। विभाग की इस लापरवाही से आमजन में विभाग प्रशासन के प्रति गहरा आक्रोश व्याप्त है।
बचाव के लिए हाई अलर्ट पर स्वास्थ्य विभाग 
डेंगू, चिकनगुनिया, मलेरिया अन्य मौसमी बीमारियों के खतरे को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग एहतियाती कदम उठा रहा है। सीएमएचओ डॉ. अरूण कुमार ने बताया कि सभी बीसीएमओ तथा विभागीय कर्मचारियों को मुस्तैद होकर मौसमी बीमारियों की रोकथाम के लिए काम करने के निर्देश दिए हैं। विभाग की ओर से कई जगह फोगिंग भी करवाई जा रही है। सीएमएचओ डॉ. अरूण कुमार ने बताया कि मौसमी बीमारियों से बचने के लिए छत घर के आसपास अनुपयोगी सामग्री में पानी जमा होने दें। सोते समय मच्छरदानी का उपयोग करें और किसी भी मौसमी बीमारी का लक्षण पाए जाने पर तुरंत सरकारी अस्पताल जाकर चिकित्सक से सलाह लें।


Post a Comment

Popular posts from this blog

हनुमानगढ़ जिले का स्थापना दिवस आज

पारिवारिक न्यायालय के अनूठे फैसले- परिवार टूटने के बजाय हो रहे एक

‘नाटकों का सामाजिक जीवन में महत्व’ विषय पर परिचर्चा